आज हम  जन्म प्रमाणपत्र के बारे में जानेंगे की, क्यों birth certificate को इतना महत्वपूर्ण दस्तावेज मानाजाता है। इस पोस्टमें birth certificate importance का महत्व देखेंगे।

दोस्तों पूरी पोस्ट पढ़िए अगर आपको कोई सवाल या फिर सुझाव् होतो इस पोस्ट के निचे संपर्क (Contact Us) में अपना सवाल या सुझाव डालकर हमे भेजे हम आपके हर समस्या और सुझाव पर अमल करेंगे।

birthcertificateinfo.com
birth certificate, जन्मप्रमाण् पत्र

What is Full Birth Certificate ?

सबसे पहले जानते है की जन्म प्रमाणपत्र (Birth  Certificate )की व्याख्या कैसे की जाती है, “किसी एक व्यक्ति की जिंदगी को परिभाषित करने के लिए उस व्यक्ति के जन्म और मृत्यु ये दो घटनाये मुख्य होती है। किसीभी व्यक्ति की वैधानिक अस्तित्व को साबित करने के लिए उस व्यक्ति की जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है।”

भारत में ये लेखाजोखा रखने के लिए नागरी पंजीकरण (Civil Registration ) में जन्म (Birth ), मृत्यु (Death), विवाह, मृत जन्म और तलाक जैसे महत्वपूर्ण अभिलेखन किया जाता है।

नागरी पंजीकरण (Civil Registration ) डिपार्टमेंट भारत में जन्म और मृत्यु का लेखा जोखा रखता है।

  1. भारतीय संविधान की सूचि क्रमांक ३० अनुसार जीवनांक संख्यांकि यानी जन्म दिनांक और मृत्यु का रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है। भारत में जन्म और मृत्यु रजिस्ट्रीकरण अधिनियम, १९६९ के लागू होनेके बाद से जन्म और मृत्यु  का रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है।

The Registration of Births and Deaths Act, 1969

भारत में जन्म और मृत्यु रेजिस्ट्रेशन अधिनियम सन १९६९ में लागू हुवा जिससे भारत में जन्म और मृत्यु रेजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य हुवा है।

इस अधिनियम के चलते भारत में जन्म और मृत्यु का लेखा जोखा काफी हदतक दुरुस्त हुवा है। आइये जानते है इस अधिनियम की कुछ विशेषताएं और प्रावधान।

  1. जन्म  और मृत्यु का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है।
  2. जन्म का अर्थ जीवित जन्म या मृत जन्मसे है।
  3. भारत में होनेवाले सभी जन्म और मृत्यु की रिपोर्टिंग और रजिस्ट्रेशन के लिए एकही कानून है।
  4. जन्म मृत्यु का रजिस्ट्रेशन रजिस्ट्रार को घटना घटने के स्थान और अपने अधिकार क्षेत्र में ही करना होता है।
  5. जन्म और मृत्यु की घटना घटित होने के २१ दिनके अंदर रजिस्ट्रेशन करना है।
  6. जन्म और मृत्यु का रजिस्ट्रेशन निशुल्क होता है।
  7. २१ दिनों के बाद भी रजिस्ट्रेशन होता है।
  8. इस अधिनियम में बच्चे के बिना नामसे और बादमे नाम जुड़वाने का भी प्रावधान है।
  9. इस अधिनियम में भारत से बाहर नागरिको के जन्म और मृत्यु के रजिस्ट्रेशन के लिए विशेष प्रावधान है।
  10. जन्म और मृत्यु का रजिस्ट्रेशन ना कराने पर जुर्माने काभी प्रावधान है।

The Registration of Births and Deaths Act, 1969 डाउनलोड करे।  

birth certificate india born before 1989 / how to get birth certificate in india if not registered / reissue of birth certificate online / how to get birth certificate after 30 years in india / birth certificate application form online / how to get birth certificate for newborn baby in india / how to get birth certificate in tamilnadu / birth certificate form pdf

How can I get my birth certificate online in India?

दोस्तों जैसे की मैंने आपको बताया भारत में जन्मप्रमाण पत्र एक महत्वपूर्ण सरकारी दस्तावेजो मेसे एक है।  भारत में ये एक ऐसा प्रमाणपत्र है जिसमे नवजात शिशु के जन्म, नाम, जन्म के ठिकान और उसके माता पिता का नाम होता है।

क्या हम जन्मप्रमाण पत्र ऑनलाइन निकाल सकते है ?

इस सावल का जबाब हाँ है। भारत में Birth Certificate दो तरह से निकाले जा सकते है

  1. Online Birth Certificate
  2. Offline  Birth Certificate

भारत में एकूण राज्यों मेसे कुछ राज्योंमें ऑनलाइन पद्धतिसे जन्मप्रमाण पत्र की सुविधा है, और कुछ राज्य अभी भी ऑफलाइन पद्धतिसे जन्मप्रमाण पत्र वितरित करते है।

इस वेबसाइट में हम अपनी अगली पोस्ट में विभिन्न राज्यों के ऑनलाइन पद्धतिसे किस तरह जन्मप्रमाण पत्र निकाले जा सकते है, इस बारे में विस्तृत जानकारी हासिल करेंगे।

What is the use of birth certificate in India?

दोस्तों,  Birth Certificate और Death Certificate रजिस्ट्रेशन के फायदे जानना काफी महत्वूर्ण है।  इस सेक्शन में हम जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र रजिस्ट्रेशन के फायदे देखेंगे, ये फायदे सांकेतिक है सम्पूर्ण नहीं है।

जन्म प्रमाणपत्र के उपयोग 

  • समाज कल्याण के योजनावो का लाभ देने के लिए।
  • जन्म प्रमाणपत्र बच्चो का प्रथम अधिकार होता है।
  • पहचान स्थपित करने के लिए।
  • आयु का निचियात्मक प्रमाण।
  •  बच्चो को संवरक्षण और देखभाल के लिए।
  • स्कूलों और विद्यालय में प्रवेश हेतु।
  • ड्रायविंग लायसेंस, पास पोर्ट आदि बनवाने के लिए।
  • मताधिकार के लिए प्रमाणपत्र।

मृत्यु प्रमाणपत्र के उपयोग 

  • पैतृक और सम्पत्ति के अधिकार स्थापन के लिए।
  • बिमा राशि पाने के लिए।
  • परिवार पेंशन के लिए।

What if I don’t have a birth certificate in India?

कईबार माता पिता अपुरे जानकारी के वजह से अपने नवजात बच्चे का जन्मप्रमाण पत्र निकालनेमे आनाकानी करते है या निकाल नहीं पाते, जन्मप्रमाण पत्र नए जन्मे बच्चे के भविष्य के लिए काफी जरूरी सरकारी दस्तावेज है।

बच्चे के जन्म के २२ दिनों के अंदर बच्चे का जन्मप्रमाण पत्र निकलवाना चाहिए, लेकिन किसी कारणवश अगर माता पिता बच्चे का जन्मप्रमाण पत्र २२ दिनों के अंदर निकाल नहीं पाए तो, उन्हें घबराना नहीं चाहिए आप २२ दिनों के बादभी जन्मप्रमाण निकाल सकते है।

नवजात बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र २२ दिनोंके बाद निकालनेके लिए आप को एक मामूली दंड भरना होता है।  उसके बाद आप जन्मप्रमाण आसानी से निकाल सकते है।

What is required for birth certificate?

नवजात बालक का जन्मप्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने के लिए जन्मके २२ दिनों के अंदर आवेदन करना चाहिए।  अगर बच्चे का जन्म अस्पताल में हुवा है तो, जन्मप्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए जो आवश्यक दस्तावेज लगेंगे वो अस्पताल का मैनेजमेंट अपनेआप आपको देंगा।

अगर किसी कारण बच्चे के जन्म के २२ दिनों के अंदर बच्चे  के जन्मप्रमाण पत्र के लिए आवेदन नहीं किया गया तो आपको  से निम्नलिखित दस्तावेज की आवश्यकता पड़ेंगी।

  • अपस्ताल की पूरी जानकारी जहाँ  बच्चे का जन्म हुवा है।
  • माता-पिता का पहचान पत्र
  • बच्चे का जन्म स्थान, समय और जन्म तारीख

ये दस्तावेज आपको रजिस्ट्रार के ऑफिस में जमा करवाने है, जिसके बाद आपको जन्मप्रामण पत्र दिया जाएगा।

Birth and Death Certificate Registration in Difference Conditions

दोस्तों,  जन्म और मृत्यु रजिस्ट्रेशन करने के लिए भी कुछ विभिन्न परिस्थितिया होती है , उन परिस्तिथियोमे Birth Certificate और Death Certificate का रजिस्ट्रेशन करने के क्या क्या प्रावधान है देखेंगे।

  • बच्चो को गोद लेने पर जन्म प्रमाणपत्र रजिस्ट्रेशन
  • सरोगसी, ए आर टी और इन विट्रो फर्टिलाइजेशन तकनीकों व्दारा जन्मे बच्चे का जन्म प्रमाण रजिस्ट्रेशन
  • खोये हुवे व्यक्ति का मृत्यु प्रमाणपत्र
  • प्राकृतिक संकटो / विपत्तियों और आपदाओं में मृत्यु का रजिस्ट्रेशन

Birth certificate registration on adoption of children

(बच्चो (दत्तक) को गोद लेने पर जन्म प्रमाणपत्र रजिस्ट्रेशन)

दोस्तों,आमतौर पर लोगो को लगता है की, जब कोई बच्चे को गोद लेते है तो उस बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र बनवाना काफी कठिन होता है ,  लेकिंग दोस्तों गोद लेने पर बच्चो का जन्म प्रमाणपत्र (Birth Certificate Registration on  Adoption) बनवाना काफी आसान है।

आपको सिर्फ रजिस्ट्रार के ऑफिस में जाकर कुछ जरूरी फॉर्म भरना होता है।  मगर सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की भारतीय संविधान व्दारा किसी बच्चे को  गोद लेने के लिए कुछ मापदंड रखे हुवे है।  तो आइये जानते है क्या है वो मापदंड।

Criteria for Adoption Child

दत्तकग्रहण अधिनियम २०१७ अनुसार, भारत में बच्चे को गोद (दत्तक) लेनेके लिए निम्नलिखित बालक पात्र है।

  1. कोई भी अनाथ, परित्यक्त्य बालक, या बाल कल्याण समीति व्दारा दत्तक ग्रहण के लिए स्वतंत्र घोषित बालक।
  2. परिवार या नातेदार का बालक
  3. सौतेले माता पिता द्वारा दत्तकग्रहण के लिए स्वतंत्र किये गए बालक

Eligibility criteria for prospective adoptive Parents

दत्तकग्रहण अधिनियम २०१७ अनुसार, भावी दत्तक माता पिता लिए पात्रता मापदंड निम्नलिखित है।

  • भावी दत्तक माता पिता भावनिक, शारीरिक और मानसिक रूप से दृढ़ और आर्थिक रूप से सुदृढ़ होना चाइये।
  • भावी माता पिता की बालक दत्तक लेने के लिए दोनों की सम्मति आवश्यक है।
  • स्त्री अकेली यही और बालक दत्तक लेना चाहती है, तो वह  किसी भी लिंग का बच्चा यानी लड़की या लड़का गोद ले सकती है।
  • पुरुष अगर अकेला है तो वह सिर्फ लड़के को दत्तक (गोद ) ले सकता है, वह लड़की को दत्तक नहीं ले सकता।
  • किसी भी दंपति को बच्चा तबतक दत्तक नहीं दिया जाएगा जबतक उनके विवाह को कमसे कम दो  पुरे नहीं हो जाते।
  • विभिन्न आयु के बच्चो के दत्तक देने के लिए माता पिता की उम्र का विवरण निम्नलिखित है।
  • बालक की आयु भावी दत्तक माता-पिता की अधिकतम संयुक्त आयु एकल भावी दत्तक माता-पिता की अधिकतम आयु
    4 वर्ष तक 90 वर्ष 45 वर्ष
    4 वर्ष से 8 वर्ष तक 100 वर्ष 50 वर्ष
    8 वर्ष से 18 वर्ष तक 110 वर्ष 55 वर्ष
  • भावी दत्तक माता पिता और बच्चे के प्रत्येक की उम्र में अंतर् २५ वर्ष से कम नहीं होना चाहिए।

तो दोस्तों, ये थे कुछ महत्वपूर्ण मापदंड जो भावी दत्तक माता पिता या बालक के लिए जरूरी है, आशा करता हु आपको ये पोस्ट अच्छी लगी होंगी, और  आपको बच्चे का जन्मप्रमाण पत्र की महत्वता और दत्तक बालक दत्तक लेने के लिए क्या क्या मापदंड है ये सब समझ में आया होगा।

Birth Certificate Online

भारत में Birth Certificate Online निकालने का चलन हालही में काफी बढ़ा है, इसका कारण ये है की online birth certificate निकालना अब काफी आसान हो गया है, जिसकारण कोईभी जिसे मोबाइल चलाना या कंप्यूटर चलाना आता है वो आसानी से जन्मप्रमाण पत्र ऑनलाइन पद्धतिसे निकाल सकता है या आवेदन कर सकता है।

State Wise Birth Certificate Download Websites 

भारत सरकारने और विभिन्न राज्योंने अपने अपने सरकारी वेब पोर्टल पर ऑनलाइन विविध प्रमाण पत्र जारी किये है।

India Union Territories Wise Birth Certificate Download Websites 

FAQ’s on Birth Certificate Importance

Step 1 :

जन्म प्रमाण पत्र के आवेदन करने के लिए रजिस्ट्रेशन ऑफिस (आपके क्षेत्र के म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन) से फॉर्म लेकर उसे पूरा भरकर भी Birth Certificate के लिए आवेदन कर सकते है।

Step 2  :

बच्चे का जन्म अगर अस्पताल में हुवा है तो मेडिकल अफसर व्दारा आप Birth Certificate Application Form दिया जाएगा।

आपको ये फॉर्म बच्चे के जन्म होनेके २१ दिनों के भीतर भरकर जमा करवाना है।

नहीं, पासपोर्ट अधिनियम १९८० के तहत पहले जो भी आवेदक जिनका जन्म २६/०१/१९८९ के बाद या पहले हुवा है उन्हें पासपोर्ट के आवेदन के लिए Birth Certificate जमा करना अनिवार्य था।

मगर इस अधिनियम में सुधार करके अब आपके पासपोर्ट आवेदन करने के लिए Birth Certificate के बजाय निम्नलिखित दस्तावेजो  मेसे कोईभी एक दस्तावेज दे सकते है।

  1. स्कुल छोडने का प्रमाण पत्र (School  Leaving Certificate)
  2. १० वी  कक्षा का प्रमाण पत्र जिसपर आपकी जन्म तिथि दर्ज की हो।
  3. पैन कार्ड
  4. आधार कार्ड / ई आधार
  5. ड्रायविंग लायसेंस
  6. वोटर आयडी कार्ड
  7. LIC पॉलिसी बॉन्ड

Birth Certificate का इस्तेमाल निम्न;लिखित कामो में किया जाता है।

  1. सामाजिक सुरक्षा,
  2. मेडिकेड,
  3. स्कूल में नामांकन,
  4. ड्राइवर का लाइसेंस के आवेदन करते समय,
  5. विवाह प्रमाण पत्र के लिए

भारत में Online Birth Certificate निकलने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स फॉलो करे।

Step : 1 

भारत सरकार ने जन्म प्रमाण पत्र और अन्य प्रामणपत्र हासिल करने के लिए Online Birth Certificate विरतण की सुविधा शुरू की है। इसीलिए आप अपने राज्य के Civil Services की वेब पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

Step : 2 

इस पोस्ट में ऊपर विविध राज्यों के Civil Services के वेब पोर्टल की लिंक दी है। उस लिंक का इस्तेमाल करके आप अपने राज्य के Civil Services के वेबपोर्टल में जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

 

जन्म प्रमाण पत्र आमतौर पर आपके राज्य के वाइटल रिकॉर्ड्स विभाग में रखे जाते हैं। एक बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र तब जारी किया जाएगा जब अस्पताल में उचित रूप में  हुवा हो।

  1. Birth Certificate के आवेदन के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों कीआवश्यकता है?
    माता-पिता का जन्म प्रमाण पत्र।
  2. माता-पिता का विवाह प्रमाण पत्र।
  3. अस्पताल में जन्म पत्र का प्रमाण।
  4. माता-पिता का पहचान प्रमाण (सत्यापन के लिए)

हाँ , पहिली बार बच्चे का स्कुल में दाखिला लेते समय स्कुल में जन्म प्रमाण पत्र देना आवश्यक है।

how to get birth certificate in india online /birth certificate india /gram panchayat birth certificate format pdf /birth certificate download / birth certificate online maharashtra / birth certificate form pdf / birth certificate download online / birth certificate apply

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here