आज इस पोस्ट में हम नवजात शिशु का जन्म प्रमाणपत्र (Birth Certificate for newborn baby) कैसे प्राप्त करे इसबारे में जानकारी हासिल करेंगे।

इस पोस्ट के माध्यम से मै आपको कुछ ऐसे स्टेप्स बतायूंगा जिसकी मद्त से आप आसानी से जन्मप्रमाण पत्र हासिल कर सकेंगे।

Easy-Steps-For-get-a-Birth-Certificate-for-newborn-baby-2020
Easy-Steps-For-get-a-Birth-Certificate-for-newborn-baby-2020

अगर आप भारतीय है और शादीशुदा है और नवजात शिशु की प्लानिंग कर रहे तो आपको शिशु के जन्म प्रमाणपत्र के बारे में जानना काफी महत्वपूर्ण है। 

 

नवजात शिशु का जन्मप्रमाण पत्र जन्म के ठीक बात आसानी से निकल जाता है मगर समस्या उस समय आती है जब जन्म के कुछ दिनों या महीनो बाद जन्मप्रमाण पत्र निकलवाना पडे।

जैसा की मैंने आपको मेरे पिछले पोस्ट में बताया था की जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र का लेखाजोखा भारत सरकार के एक विशिष्ट विभाग यानी office of the Registrar General & Census Commissioner, India व्दारा रखा जाता है।

स्थानीय स्तरपर म्युनिसिपल  कॉर्पोरेशन / म्युनिसिपल कौंसिल शहरी भागो में जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र का वितरण करते है और ग्रामीण भागो में तहसीलदार जोकि तालुका / तहसील लेवल पर और गांव के स्तरपर ग्रामपंचायत जन्म और मृत्यु का वितरण करने के लिए उत्तरदायी है।

नवजात शिशु का जन्म प्रमाणपत्र प्राप्त करना अब पहले जैसा कठिन नहीं है, पहले जन्म या मृत्यु प्रमाणपत्र पाने के लिए काफी मशक्क्त करनी होती थी।

जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र पाने के लिए काफी सारे दस्तावेज और की दिनों तक सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ते थे, मगर भारत सरकार ने अभी इस काम को आसान कर  दिया है।

अब आप घरबैठे ही Online Birth Certificate Apply कर सकते हो। बशर्ते आपको पूरी प्रोसेस पता होनी चाहिए। जन्म प्रमाणपत्र हासिल करने के  भारत में दो प्रकार है।

  1. Offline Birth Certificate Apply
  2. Online Birth Certificate Apply

आज इस पोस्ट के माध्यम से मैं आपको ये दोनोंही Offline-Online प्रोसेस कैसे कीजाती है इसबारे में विस्तार से जानकारी देनेवाला हु , ये पोस्ट आपके सभी सवालों के जबाब देंगी।

Steps for Applying Birth Certificate for Newborn Baby

Step 1 : सबसे पहला स्टेप ये है की आपको रजिस्ट्रार के ऑफिस से जोकी म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन/ कौंसिल में होता है उसके तरफसे जन्म प्रमाणपत्र रजिस्ट्रेशन फॉर्म लाना होगा।

Step 2 : नवजात बच्चा किसी हॉस्पिटल में जन्मा है तो मेडिकल ऑफिसर ही आपको बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र पानेके लिए फॉर्म देंगे।

Step 3 : यह फॉर्म आपको नवजात शिशु के जन्म के बाद २१ दिनों के अंदर भरकर रजिस्ट्रार के ऑफिस में  जमा करना है।

Step 4 : किसी कारणवश यह फॉर्म २१ दिनोंके अंदर न भरा गया तो, इस अवस्था में आपको पोलिस वेरिफिकेशन करना होगा।

Step 5 : शिशु के जन्मका समय, स्थान और तिथि, जन्मदाता माता पिता का पहचान पत्र, जिस हॉस्पिटल में शिशु का जन्म हुवा है उसका पत्ता इन सबकी पुष्टि करने के बादही रजिस्ट्रार जन्म प्रमाणपत्र तयार करने की प्रोसेस करते है।

Step 6 :  दस्तावेज रजिस्ट्रार के ऑफिस में जमा करने के बाद आपको ०७ दिनों तक प्रतीक्षा करनी है, दस्तावेज  के साथ आपको अपना पूरा पता लिखा हुवा लिफाफा भी देना होता है, जिसमें डालकर ही रजिस्टार ऑफिस व्दारा आपको जन्म प्रमाणपत्र आपके पते पर ०७ से १४ दिनों के अंदर भेजा जाएगा।

हमारी यह पोस्ट आपने पढ़ी। 

Best 8 Birth Certificate Importance (2020)

Persons required to register the Birth for Birth Certificate for newborn baby

जन्मप्रमाण पत्र को विभिन्न परिस्थिओं में जारी करने के लिए कुछ विशिष्ट अधिकारी/पदाधिकारी योंको अधिकार होते है वे निम्नलिखित है।

  • बच्चे का जन्म घरमे हुवा है, इस परिस्थिति में घर का मुखिया या अगर मुखिया बच्चे के जन्म के समय हाजिर नहीं है तो इस परिस्तिथिमें घरमें मौजूद बच्चे का रिश्तेदार को बच्चे जन्मप्रमाण पत्र आवेदन देने का अधिकार होता है।
  • बच्चे का जन्म किसी अस्पताल या नर्सिंग होम में हुवा है तो संबंधित अस्पताल या नर्सिंग होम के मेडिकल ऑफिसर इंचार्ज या उनके व्दारा अधिकृत व्यक्ति बच्चे की जन्म का रजिस्ट्रेशन कर सकता है।
  • बच्चे का जन्म अगर जेल में हुवा है तो जेलर इंचार्ज;
  • बच्चे का जन्म अगर छात्रावास, धर्मशाला, बोर्डिंग-हाउस, लॉज-हाउस, सराय, बैरक, ताड़ी की दुकान या सार्वजनिक स्थल के स्थान पर होता है  इस संबंध में, वहां के प्रभारी व्यक्ति;
  • नये जन्मे बच्चे का जन्म अगर सार्वजनिक स्थान पर सुनसान पाया जाता है, जिसके संबंध में गांव के मामले में मुखिया या गांव के संबंधित अधिकारी, स्थानीय थाने के प्रभारी अधिकारी;

Birth Certificate for newborn baby registration fees  in India 

बच्चे के जन्म के २१ दिनों के अंदर अगर आप जन्मप्रमाण पत्र के लिए आवेदन करते है तो, आपको सिर्फ २० रूपये फीस देनी होंगी, मगर किसी कारणवश अगर आप बच्चे के जन्म के २१ दिनके अंदर जन्मप्रमाण पत्र के लिए आवेदन करना चूक गए तो आपको विलंब शुल्क (Late Fees) लगेगी।

  • बच्चे जन्म के २१ दिनों के अंदर रजिस्ट्रार को जन्म की सूचना देना अनिवार्य होता है, यदि २१ दिनों के बाद  परंतु ३० दिनों के अंदर बच्चे के जन्म की सूचना रजिस्ट्रार को दी जानेपर ०२ /- (दो रूपये ) विलंब शुल्क (Late Fees) ) लगेगी।
  • बच्चे के जन्म की सूचना ३० दिनों के बाद रजिस्ट्रार को दी जाती है, लेकिन इसकी घटना के एक वर्ष के भीतर, तहसीलदार / आयुक्त / मुख्य अधिकारी की लिखित अनुमति के साथ ही मामला दर्ज किया जाएगा, जैसे भी हो, देर से सूचना करने पर रु .5 / – का शुल्क (केवल पांच रुपए) लगेगा।
  • बच्चे के जन्म की नोंद एक वर्ष के भीतर  नहीं की गई है, इस परिस्तितिमे केवल प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट या प्रेसीडेंसी मजिस्ट्रेट के आदेश पर, 10 / – रुपये के विलंब शुल्क के भुगतान पर पंजीकृत किया जाएगा (रुपए दस) केवल)।

Documents required for application of Birth certificate for newborn baby

नये जन्मे बच्चे के जन्मप्रमाण पत्र के आवेदन के लिए निम्नलिखित दस्तावेज की आवश्यक्यता होती है।

  • माता -पिता का जन्म प्रमाण पत्र
  • माता -पिता का विवाह प्रमाण पत्र
  • बच्चे का अस्पताल में जन्म का प्रमाण पत्र
  • माता या पिता का पहचान पत्र

Why it is important to get birth certificate of new born baby

भारत में जन्म प्रामण पत्र को काफी महत्व है, ये बच्चे का उसके जीवन का सबसे पहला सरकारी दस्तावेज कहलाता है।

Birth Certificate के बिना भारत में किसीभी व्यक्ति को भारत का नागरिक नहीं माना जाता, और वह अन्य लाभों और अधिकारों के लिए पात्र नहीं माना जाता। 

  • शैशणिक संस्थाओ में प्रवेश हेतु।
  • रोजगार प्राप्त करने हेतु।
  • सरकारी विभिन्न लाभ और अधिकार प्राप्त करने के हेतु।
  • पासपोर्ट के आवेदन हेतु।
  • वोटर आयडी, ड्रायविंग लायसेंस  और विवाह प्रमाण पत्र प्राप्त करने हेतु।

हमेशा याद रखें – अपने बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र को उसके जन्म के तुरंत बाद ही प्राप्त करें !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here